कोण्डागांव : शेड नेट में परागकण उत्पादन ने बढ़ाई सोमारू की आय

विकासखण्ड कोण्डागांव के अंतर्गत ग्राम चलका निवासी सोमारू नेताम पिता सोभी राम नेताम वर्षों से पारम्परिक कृषक के रूप में अपने 1.49 हेक्टेयर भूमि पर धान एवं साग-सब्जियों का उत्पादन करते आ रहे थे, परन्तु इससे उन्हें केवल जीवन यापन लायक ही धनराशि प्राप्त हो पाती थी। अपने उत्पादन आय को बढ़ावा देने के लिए वे लगातार प्रयत्नरत् थे। इस दौरान उद्यानिकी विभाग द्वारा उन्हें शेड नेट हाउस योजना के संबंध में जानकारी प्राप्त हुई साथ ही विभाग द्वारा ाये जा रहे प्रशिक्षण कार्यक्रम से टमाटर के परागकण उत्पादन की जानकारी मिली। वर्ष 2018-19 में उन्होंने अपने 2000 वर्ग मीटर  भूमि पर शेड नेट हाउस का निर्माण कर टमाटर में परागकणों का उत्पादन प्रारंभ किया। शेड हाउस के उपयोग से खेत में कीटों एवं रोगो के प्रकोप कम हुआ वहीं पौधों की वृद्धि हेतु उन्हें अनुकूल वातावरण भी प्राप्त हुआ। जिससे उनके उत्पादन में बढ़ोत्तरी हुई।

इस संबंध में उद्यानिकी अधिकारी लोकेश्वर प्रसाद धु्रव ने बताया कि सोमारू नेताम अपने खेत में मौसमी फसलों द्वारा इससे पूर्व कुल 50 क्वि. फसल एक वर्ष में लिया करते थे। जिससे उन्हें कुल 100000 रूपये की आमदनी हुआ करती थी। पराग उत्पादन के प्रशिक्षण उपरांत उन्हें निजी एजेंसियों द्वारा प्रति किलोग्राम 600000 रूपये में परागकण के खरीदे जाने के संबंध में जानकारी प्राप्त हुई। जिससे वे परागकण उत्पादन से जुड़े। वर्तमान में टमाटर के पराग का कुल 700 ग्राम उत्पादन 2000 वर्ग मीटर क्षेत्रफल में  प्रतिवर्ष कर रहे है, जिससे उन्हें सालाना 4,20,000 रूपयों की आमदनी प्राप्त हो रही  है।

इसके अतिरिक्त सोमारू ने कहा कि उद्यान विभाग से शेड नेट एवं योजना राष्ट्रीय बागवानी मिशन का लाभ उठाकर मै बहुत खुश हूं। इससे मेरी आय के साथ आर्थिक स्थिति में भी सुधार हुआ है। मैं आगे भी परागकण उत्पादन से जुड़कर आस-पास के ग्रामीणों को परागकण उत्पादन के लिए प्रेरित करता हूं ताकि सभी कृषक भाईयों को इस योजना का लाभ मिल सके।

Leave a Reply